Who am I poetry

dhokha who am I poetry
Spread the love

This poetry speaks about who am I? which is all about what you should ask and recognize for your inner peace. When you are not able you find yourself happily with your love, when your trust has broken, something is in your inside that you are not able to recognize. Ask yourself that who am I? Can anyone play with my heart? See what is going on actually, and you will get the answer.

जिंदगी मे ऐसे मोड़ आते हैं जब हमें बहोत से ऐसे लोग या अनुभव मिलते हैं जिससे खुद को लगता है की मैं कौन हूँ? क्या कोई भी मेरे विश्वास से खेल सकते हैं? और आखिर विश्वास को कौन बनाए रखता है और कौन तोड़ता है? इसी अनुभव पर यह पहेली कविता आपके लिए।

**********Who am I?**********

I am difficult to identify,

Because your eyes are inaccessible.

It is my nature to build a house in the heart and break it.

I have a boon on your weakness and your curse.

No matter what happens to you.

Even though you heart after I leave.

My home is home to the unsuccessful and weak.

oh a weak-hearted person, if you Recognize me,

Every morning is your blessing and every evening is your gathering.

Tell me, who am I?

(In Hindi)

———-“Who am I?”———

मुझे पहचानना मुश्किल है, क्यूंकि तेरी आखें नाकाबिल है।
दिल में घर बना उसे तोड़ जाना फितरत है मेरी
तेरी कमजोरी तेरा अभिशाप पर मुझे तो वरदान हासिल है। कोई फर्क ना पड़ता मुझे के तेरा क्या होगा
मेरे जाने के बाद भले तेरी रूह बिस्मिल है।
नाकामयाब और कमजोर का घर ठिकाना है मेरा
मुझे पहचान ले अगर तु ऐ कमबख़्त दिल-ए-इंसान
हर सुबह तेरा नज़्म और हर शाम तेरी महफिल है।
मैं कौन हूँ?

Read more:

sad rain poem जब बारिश हो रही थी

उलझन मे खुद को कैद न कर

आज समंदर भी तन्हा है

तुझे अपने पास पाता हूँ

वक़्त ही मेरा रक़ीब बन गया

शायरी

Quotes and Status

17+ motivational inspiring quotes and status

10+ broken heart quotes in Hindi


Spread the love

Recommended Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *